Tuesday, October 24, 2006

Kaise hai Dosthon

Apke sath samvad ka naya manch pakar bahut prasanta hui. Vad Samvad ke kam hote mancho se prabhavit hokar, anabhivyakti ki chle gaye vichar aj ashanvit hai. Masijivi ke prati vishesh abhar.

3 comments:

masijeevi said...

swagat hai aapka

अफ़लातून said...

नीलिमाजी ,रोमन लिपि से बचने के लिए इस ऑनलाइन औजार का प्रयोग कर सकती हैं :
यहाँ खटका मार कर ।

Neelima said...

हे हे शुक्रिया अफलातूनजी

पर आप इस अति पुरानी पोस्‍ट पर कैसे पहुँचे आज...इस बीच रोमन से छुटकारा पा लिया है :)